Government Teacher Kaise Bane? : सरकारी टीचर ( Government teacher ) कैसे बनें? पूरी जानकारी

Government Teacher Kaise Bane?  : सरकारी टीचर बनने के लिए आपको काफी मेहनत करनी होती है. इसके लिए कम से कम 5 से 6 घंटे पढ़ाई करनी जरूरी है तभी आप इस सपने को पूरा कर सकते हैं.

Government Teacher Kaise Bane? : सरकारी टीचर ( Government teacher ) कैसे बनें? पूरी जानकारी

Government Teacher Kaise Bane?  : बहुत सारे स्टूडेंट्स 12वीं के बाद से ही टीचर बनने का सपना देखने लगते हैं. पर सही गाइडलाइन न मिलने की वजह से वे अपने लक्ष्य को पूरा नहीं कर पाते हैं. इस पेशे में जाना पहले से कहीं ज्यादा मुश्किल हो गया है. केंद्र और राज्य सरकार ने टीचर बनने के लिए हर स्तर पर अलग मापदंड बना दिए हैं जिन्हें क्रैक करने के बाद ही आप इस प्रोफेशन में जा सकते हैं. इस नौकरी में जाने से पहले आपको इसके बारे में विस्तार से समझना होगा.

B.Ed, TET, CTET अनिवार्य एग्जा हैं जिन्हें पास करने के बाद ही आप टीचर के लिए योग्य प्रतिभागी  माने जाते हैं. बीएड में दाखिले के लिए PRE.B.ED बीएड या PTET एग्जाम देना होता है. इस एग्जाम के जरिए इंस्टीट्यूट में बीएड के लिए एडमिशन होता है.

टीचर बनने की योग्यता 

टीचर बनने के लिए आपको निम्नलिखित योग्यताओं की आवश्यकता होती है:

  1. उच्चतर माध्यमिक या सेकेंडरी शिक्षा: आपको किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड या संस्था से 12वीं कक्षा की पास करनी होगी।
  2. बैचलर डिग्री: टीचर बनने के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से बैचलर डिग्री (B.Ed., B.A. B.Ed., B.Sc. B.Ed. आदि) प्राप्त करनी होगी। यह डिग्री टीचिंग में विशेषज्ञता प्राप्त करने में मदद करती है।
  3. मास्टर्स डिग्री: कुछ विशेषता वाले पदों के लिए आपको मास्टर्स डिग्री (M.Ed., M.A. Education, M.Sc. Education आदि) प्राप्त करनी होगी। इससे आप अधिक उच्च स्तरीय शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञता प्राप्त कर सकते हैं।
  4. TET (टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट): कई राज्यों में टीचर बनने के लिए टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (TET) पास करना आवश्यक होता है। TET योग्यता प्राप्त करने के लिए आपको राज्य या केंद्रीय सरकार द्वारा निर्धारित मानक परीक्षा में सफलता प्राप्त करनी होगी।
  5. CTET (केंद्रीय शिक्षक एलिजिबिलिटी टेस्ट): केंद्रीय सरकारी विद्यालयों में शिक्षक बनने के लिए केंद्रीय शिक्षक एलिजिबिलिटी टेस्ट (CTET) पास करना आवश्यक हो सकता है।
  6. प्रशिक्षण: टीचर बनने के बाद आपको शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम (जैसे B.Ed., M.Ed. आदि) में भाग लेना हो सकता है। यह आपको शिक्षण और शिक्षण कौशल को विकसित करने में मदद करेगा।
  7. आवेदन: टीचर बनने के लिए आपको अपने राज्य के शिक्षा विभाग में आवेदन करना होगा। आपको लिखित परीक्षा, साक्षात्कार, और अन्य चयन प्रक्रियाओं से गुजरना हो सकता है।

इन योग्यताओं को पूरा करने के बाद, आप एक अच्छे टीचर के रूप में सरकारी या निजी स्कूलों में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं। ध्यान दें कि योग्यता और प्रक्रिया राज्य और केंद्र सरकार के निर्देशानुसार अलग-अलग हो सकती हैं, इसलिए आपको अपने राज्य के शिक्षा विभाग के नियमों को जांचना चाहिए।

टीचर बनने के लिए उम्र कितनी होनी चाहिए?

टीचर बनने के लिए हर स्तर पर उम्र का अलग क्राइटेरिया है. अगर आप प्राथमिक स्तर के लिए अप्लाई कर रहे हैं तो आपकी उम्र 18 से 35 वर्ष होनी अनिवार्य है. जबकि टीजीटी ग्रेड और पीजीटी दोनों ग्रेड के लिए समान आयु सीमा 21 से 40 साल के बीच होनी चाहिए. रिज़र्व वर्ग के लिए आयु सीमा में छूट का प्रावधान है.

प्राइमरी टीचर के लिए योग्यता

प्राइमरी टीचर बनने के लिए निम्नलिखित योग्यताएं आवश्यक हो सकती हैं:

  1. उच्चतर माध्यमिक या सेकेंडरी शिक्षा: आपको किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड या संस्था से 12वीं कक्षा की पास करनी होगी।
  2. बेसिक टीचर्स ट्रेनिंग कोर्स: प्राइमरी टीचर बनने के लिए आपको बेसिक टीचर्स ट्रेनिंग कोर्स पूरा करना होगा। इसके लिए आप अपने राज्य या क्षेत्र के शिक्षा विभाग के मान्यता प्राप्त संस्थानों से जुड़ सकते हैं।
  3. TET (टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट): कई राज्यों में प्राइमरी टीचर बनने के लिए टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (TET) पास करना आवश्यक होता है। TET योग्यता प्राप्त करने के लिए आपको राज्य या केंद्रीय सरकार द्वारा निर्धारित मानक परीक्षा में सफलता प्राप्त करनी होगी।
  4. आवेदन: प्राइमरी टीचर बनने के लिए आपको अपने राज्य के शिक्षा विभाग में आवेदन करना होगा। आपको लिखित परीक्षा, साक्षात्कार, और अन्य चयन प्रक्रियाओं से गुजरना हो सकता है।

इन योग्यताओं को पूरा करने के बाद, आप प्राथमिक विभागों या सरकारी या निजी प्राथमिक स्कूलों में प्राइमरी टीचर की नौकरी प्राप्त कर सकते हैं। आपको ध्यान देना चाहिए कि योग्यता और प्रक्रिया राज्य और केंद्र सरकार के निर्देशानुसार अलग-अलग हो सकती हैं, इसलिए आपको अपने राज्य के शिक्षा विभाग के नियमों को जांचना चाहिए।

Goverment Teacher ka  Salary ( टीचर की सैलरी )

सैलरी का ग्रेड भी राज्य या फिर केंद्र सरकार ने टीचिंग ग्रेड के अनुसार तय कर रखा है. प्राइमरी टीचर का वेतन 37,0000  रु प्रतिमाह होता है. टीजीटी टीचर के लिए सैलरी 44 ,000  रुपए महीना होती है जबकि पीजीटी की सैलरी सबसे ज्यादा होती है. इनकी  मासिक सैलरी 47,600  से 1,51,000  होती है.

टीचर बनने के फायदे

शिक्षक बनने के कई फायदे हो सकते हैं। ये कुछ मुख्य फायदे हैं:

  • समाज सेवा: शिक्षक बनकर आप समाज की सेवा करते हैं। आप छात्रों के साथ नवीनतम ज्ञान और कौशल साझा करके सीखने और विकसित करने में सहायता करते हैं। आप छात्रों को सही मार्गदर्शन देकर उनके जीवन में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं।
  • दूसरों को प्रभावित करना: एक शिक्षक के रूप में, आप अपने छात्रों को प्रभावित करते हैं और उन्हें महत्वपूर्ण जीवन मूल्यों, रिश्तों और सामाजिक जिम्मेदारियों की समझ प्रदान करते हैं। आप उन्हें ज्ञान, समझ और सामाजिक कौशल के साथ सशक्त बनाने में मदद करते हैं।
  • आत्म-विकास: शिक्षण आपके स्वयं के विकास की ओर ले जाता है। आप अपने ज्ञान, संवेदनशीलता, संचार कौशल और नेतृत्व कौशल का विकास करते हैं। आप नई तकनीकों और शिक्षण विधियों का अध्ययन करना जारी रखते हैं और इसे अपने छात्रों के साथ साझा करते हैं।
  • नौकरियां और संगठन: शिक्षक बनने के बाद आपको सरकारी और निजी स्कूलों में नौकरी के अवसर मिल सकते हैं। आपके पास विभिन्न विषयों के लिए शिक्षण संस्थानों, कॉलेजों, स्कूलों और अन्य शैक्षिक संगठनों में पढ़ाने या अन्य पदों के अवसर हो सकते हैं।
  • रोजगार के अवसर: शिक्षक बनने के बाद आपके पास उच्च शिक्षा, अनुसंधान, पुस्तकालय विज्ञान, शैक्षिक प्रशासन, शैक्षिक नीति और शिक्षा से संबंधित संगठनों में अवसर हो सकते हैं।
  • आत्म-संतुष्टि: शिक्षक बनकर, आप छात्रों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाने में मदद करते हैं, जिससे आपको आत्म-संतुष्टि और आनंद मिल सकता है। आपको यह जानकर गर्व होगा कि आपने छात्रों के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

ये कुछ मुख्य लाभ थे, लेकिन याद रखें कि शिक्षक बनने के लिए हर किसी का अपना संदर्भ और मानदंड हो सकता है, इसलिए आपको अपनी रुचियों, क्षमताओं और लक्ष्यों के आधार पर अपना निर्णय लेना चाहिए।

Goverment Teacher के लिए आगे करियर अवसर

  • सीनियर टीचर
  • असिस्टेंट टीचर
  • हेडमास्टर
  • प्रिंसिपल

कंप्यूटर टीचर कैसे बने?

कंप्यूटर विषय से ग्रेजुएशन करने के बाद देश के प्रसिद्ध कॉलेज में पढ़ाने के लिए आपको एग्जाम देने होते हैं। जिसके बाद ही आप कम्प्यूटर टीचर बन पाते हैं। निम्नलिखित क्राइटेरिया को पूरा करके आप कम्प्यूटर टीचर बन सकते हैं।

  • अगर, आप किसी कॉलेज में लेक्चरर बनना चाहते हैं तो आपको NET एग्जाम क्लियर करना होगा।
  • दूसरी ओर किसी स्कूल में कंप्यूटर टीचिंग करना चाहते हैं तो टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट या फिर कई सारे विद्यालयों द्वारा टीचर्स की भर्ती के लिए बनाए गएमानदंड को पूरा करना पड़ सकता है।
  • अगर, आप एक सरकारी कम्प्यूटर टीचर बनना चाहते हैं और किसी गवर्नमेंट कॉलेज में पढ़ाना चाहते हैं तो इसके लिए पहले आपको UGC अथवा CSIR-NET क्वालिफाइड सर्टिफिकेट पास करना होगा।

निष्कर्ष

दोस्तों हमने इस पोस्ट सरकारी टीचर ( Government teacher ) कैसे बनें? पूरी जानकारी में आपको सरकारी टीचर कैसे बने से संबंधित सभी जानकारी प्रदान करने की कोशिश की है तथा टीचर जितने भी प्रकार के होते हैं उन टीचरों के बनने की पूरी प्रक्रिया को बताने का प्रयास किया है अगर आपको हमारी पोस्ट में कोई कमी नहीं हो या फिर आपको हमारी पोस्ट के लिए कोई सुझाव हो तो निसंदेह हमें बताएं जिससे कि हम अपने पोस्ट में सुधार कर सकें और उसे और बेहतर बना सकें।

हमारी पोस्ट पर आने के लिए आपका धन्यवाद

Leave a comment